July 18, 2024 3:24 am
Search
Close this search box.

केन्द्रीय विद्यालय संगठन राँची संभाग का 11वां प्राचार्य सम्मेलन जमशेदपुर में आयोजित

सोशल संवाद/डेस्क : केन्द्रीय विद्यालय संगठन (के.वि.स.) राँची संभाग का दो दिवसीय वार्षिक प्राचार्य सम्मेलन जमशेदपुर में गोलमुरी स्थित एक होटल में आयोजित किया गया। 27 से 29 में तक चले इस सम्मेलन में राँची संभाग के विभिन्न केन्द्रीय विद्यालयों के प्राचार्यों ने भाग लिया। सम्मेलन का उद्देश्य शैक्षिक गुणवत्ता में सुधार, प्रशासनिक चुनौतियों का समाधान, और नवीन शिक्षण विधियों पर चर्चा करना था। सम्मेलन के दूसरे दिन केन्द्रीय विद्यालय संगठन की आयुक्त निधि पांडे मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित रहीं विशिष्ट अतिथ संयुक्त आयुक्त अजीता लॉन्गजेम के साथ आमंत्रित अतिथि शशिकांत शर्मा सहायक आयुक्त (प्रशासन) नई दिल्ली भी उपस्थित रहे।

आगत अतिथियों का झारखण्ड की परंपरा के अनुसार स्वागत किया गया। अतिथियों के स्वागत के पश्चात केन्द्रीय विद्यालय राँची संभाग के उपायुक्त डी पी पटेल ने औपचारिक स्वागत किया। केन्द्रीय विद्यालय टाटानगर के छात्र-छात्राओं ने मधुर संगीत प्रस्तुत किया। केन्द्रीय विद्यालय हजारीबाग की प्राचार्य अंकिता शर्मा ने शानदार तरीके से केन्द्रीय विद्यालय राँची संभाग की विभिन्न क्षेत्रों में प्राप्त उपलब्धियों को वीडियो के द्वारा दिखाया। केन्द्रीय विद्यालय गढ़वा के प्रभारी प्राचार्य दीपक पांडेय ने शिक्षण के विशिष्ट तरीके की चर्चा की।

संयुक्त आयुक्त अजीता लॉन्गजेम ने कहा, “शिक्षा का उद्देश्य केवल ज्ञान देना नहीं है, बल्कि विद्यार्थियों को समग्र रूप से विकसित करना है। हमें विद्यार्थियों को नवीनतम तकनीक और ज्ञान से लैस करना है ताकि वे भविष्य की चुनौतियों का सामना कर सकें तथा NEP 2020 के लक्ष्यों को प्राप्त कर सकें।” उन्होंने शैक्षिक गुणवत्ता में सुधार के विभिन्न उपायों पर चर्चा की गई। इसमें शिक्षकों के प्रशिक्षण, पाठ्यक्रम में सुधार और विद्यार्थियों के प्रदर्शन का मूल्यांकन शामिल था। शिक्षण में नई तकनीकों का उपयोग और विद्यार्थियों के लिए रोचक बनाने के तरीकों पर विशेष ध्यान देने की आवश्यकता पर बल दिया।

अंत में आयुक्त ने केन्द्रीय विद्यालय के मूल्यों पर काम करते हुए लक्ष्यों को प्राप्त करने के तरीकों पर बल दिया। आज की दुनिया तेजी से बदल रही है और इसके साथ ही शिक्षा क्षेत्र में भी नई चुनौतियाँ और अवसर सामने आ रहे हैं। डिजिटल लर्निंग का महत्व दिन-ब-दिन बढ़ रहा है और हमें अपने शिक्षण पद्धतियों में नवीनतम तकनीकों का समावेश करना होगा। आज अंतिम दिन विभिन्न सत्र रखे गये हैं जिसमें संभाग के उपायुक्त डी पी पटेल व सहायक आयुक्त सुजाता मिश्रा के साथ बलेन्द्र कुमार उपस्थित रहे।

Print
Facebook
Twitter
Telegram
WhatsApp
जाने छठ पूजा से जुड़ी ये खास बाते विराट कोहली का जन्म एक मध्यमवर्गीय परिवार में 5 नवंबर 1988 को हुआ. बॉलीवुड की ये top 5 फेमस अभिनेत्रिया, जिन्होंने क्रिकेटर्स के साथ की शादी दिवाली पर पिछले 500 सालों में नहीं बना ऐसा दुर्लभ महासंयोग सोना खरीदने से पहले खुद पहचानें असली है या नकली धनतेरस में भूल कर भी न ख़रीदे ये वस्तुएं दिवाली पर रंगोली कहीं गलत तो नहीं बना रहे Ananya Panday करेगीं अपने से 13 साल बड़े Actor से शादी WhatsApp में आ रहे 5 कमाल के फीचर ये कपल को जमकर किया जा रहा ट्रोल…बच्ची जैसी दिखती है पत्नी