[wpdts-date-time]

मानकी मुंडा अधिकार पदयात्रा के चौता दिन सुन्दरनगर से निकल कर उपायुक्त कार्यालय के समक्ष पहुँच कर किया प्रदर्शन

सोशल संवाद/डेस्क : मानकी मुंडा अधिकार पदयात्रा के चौता दिन सुन्दरनगर  से निकल कर उपायुक्त कार्यालय के समक्ष पहुँच कर प्रदर्शन किया , सात सूत्री मांगो को लेकर  चार दिवसीय  मानकी- मुंडा अधिकार पदयात्रा का नेतृत्व जिलाध्यक्ष सह मानकी रोशन पुरती के अगुवाई में किया जा रहा है. मानकी – मुंडा अधिकार  पदयात्रा 15 अक्टूबर से बहरागोड़ा से  शुभारंभ हुई  और 18 अक्टूबर को  जमशेदपुर उपायुक्त कार्यालय के समक्ष सामप्त हुई , इस पदयात्रा में लगभग पाँच हजार लोग शांति पूर्वक शामिल  शामिल हुए.

विभिन्न स्थानों में स्वागत हुवा –

सुंदरनगर चौक में जोहर ट्रस्ट के अध्यक्ष पिंटू चकीया के नेतृत्व में स्वागत किया.करनडीह चौक में पूर्व जिला परिषद् राज कुमार सिंह व् जमशेदपुर प्रखंड उप प्रमुख शिव कुमार हांसदा ने आंदोनकारियों को माला पहना कर स्वागत किया. साकची बिरसा मुंडा चौक जिला परिषद कुसुम पुरती, परितोष सिंह और युवा महासभा के गोमिया सुंडी, रवि सवैयाँ, उपेंद्र बानराझारखण्ड जनतान्त्रिक महासभा की टीम आदि ने स्वागत किया. उपायुक्त मंजू नाथ भजंत्री से मिल कर माँग पत्र सौंपा उन्होंने मानकी मुंडा की मांगो को गंभीरता से सूना और मानकी मुंडा को मिलने  वाली सम्मान राशि और मोटरसाईकिल देने की प्रक्रिया को अपने स्तर से देखेंगे और जल्द ही इस पर निर्णय लेंगे और जो राज्य सरकार के द्वारा दिए  जाने वाले नीतिगत फैशले को माननीय मुख्यमत्रीं को भेजेंगे. मानकी मुंडा संघ के जिलाध्यक्ष रोशन पुरती ने कहा की हमारी मांगो को यदि सरकार और जिला प्रशासन नहीं मानती है तो आने वाले दिनों में चरण वाद तरीके से आंदोलन होगा,और आने वाले लोकसभा एवं विधानसभा  चुनाव में जिताने का काम करेगी.

मानकी – मुंडा की सात सूत्री माँगे – 

1) पूर्वी सिंहभूम के मानकी -मुंडा, डाकुवा, घटवाल, सरदार, नाईक,दिउरी/पाहन /लाया आदि को सम्मान राशि अविलम्ब दिया जाए.

2)  “हो, मुण्डारी, कुड़ुख,संथाली  भाषा को झारखण्ड का प्रथम राजभाषा का दर्जा दिया जाए.

3)भारतीय संविधान की आठवीं अनुसूची में हो, मुण्डारी, भूमिज, कुड़ुख भाषा को शामिल किया जाए.

4)कोल्हान विश्विधालय में व् महाविधालय में जनजातीय विषयों (हो, मुण्डारी, भूमिज, कुड़ुख, संथाली )के शिक्षकों (Backlog )रिक्त पदों को अविलम्ब नियुक्त किया जाए.

5)हो, मुण्डारी, भूमिज, कुड़ुख,संथाली  भाषा एकेडमी गठित हो.

5)केंद्र सरकार वन संरक्षण अधिनियम 2023 को रद्द करें.

7)राज्य सरकार पेसा कानून अधिनियम 1996 एवं आदिवासी सलाहकार परिषद् उपविधि अविलम्ब बनाया जाए.

प्रतिनिधि मंडल मानकी- मुंडा संघ के केन्द्रीय अध्यक्ष – भूषण पाट पिगुंवा एंव मानकी- मुंडा संघ पूर्वी  सिंहभूम के अध्यक्ष रोशन पूर्ति के अगुवाई में कृष्णा चन्द्र समड, डेमका सोय, सुरा बिरूली, इन्द्रजीत मुंडा, प्रो० सोमनाथ पाड़ेया, गुहीराम मुंडा, संजय बेहरा, रायमूल बानरा, , संपूर्ण सवैया,इन्द्र हेम्ब्रम, मोटाय कुदादा, अशीष मुंडा, रूद्र नरायण मुंडा, लखीन्द्र नाथ मुंडा, लैबंगा बन्डरा, पलटन पूर्ति, सुधीर हेम्ब्रम, अमर तापे, हेम्ब्रम, बिमल राम मुंडा, शरतचंद्र मुंडा, देवदास मुंडा, कवि राज सुन्डी, सादो बान्डरा,शांति सिदृ,  रूद्र नारायण सिंह,सदन गागराई,दुर्गा प्रसाद सिंह, इंद्रजीत मुंडा, डीगम मुंडा,  माणिक सरदार, पोल्टू सरदार, दुर्गा प्रसाद सिंह, डिगाम मुंडा, कोकण मुंडा, सुनील कुमार सिंह, देवदास मुंडा, रतिकांत मुंडा, समय सिंह.

Our channels

और पढ़ें