July 17, 2024 4:36 pm
Search
Close this search box.

झारखंड हाई कोर्ट के झारखंड विधिक सेवा प्राधिकार (झालसा) के निर्देश पर सुवर्णरेखा बहुद्देशीय परियोजना (चांडिल डैम) के विस्थापितों के पुनर्वास स्थल के निरीक्षण पर पहुंची

सोशल संवाद / डेस्क: हाई कोर्ट के आदेश पर झालसा ने सरायकेला खरसावां में कार्यरत जिला विधिक सेवा प्राधिकार (डालसा) को जांच का जिम्मा सौंपा. डालसा के निर्देश पर चांडिल अनुमंडल कोर्ट में सेवा दे रही डालसा की टीम चांडिल डैम के पुनर्वास स्थल पहुंच कर वहां मिल रही सुविधा, समस्या से निरीक्षण करते हुए अपनी रिपोर्ट तैयार किया. टीम के समक्ष विस्थापितों ने जमीन पट्टा नहीं होने की वजह से आवासीय नहीं बन पाने की समस्या को भी रखा. टीम का नेतृत्व सचिव अमित खन्ना कर रहे थे.

वहीं चांडिल डैम के विस्थापितों का मामला लगातार उठा रहे झारखंड मानवाधिकार संघ के अध्यक्ष दिनेश कुमार किनू प्रतिनिधि के तौर पर मौजूद रहे. टीम के सदस्यों ने किनू से भी विस्थापितों की समस्या के संबंध में जानकारी हासिल की. अनुमंडल की यह टीम डालसा सरायकेला खरसवां को अपनी रिपोर्ट सौंपेगी, डालसा इसे आगे बढ़ाते हुए झालसा को रिपोर्ट करेगी. उसके बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी. इस दौरान निरीक्षण करने आई टीम से मीडिया प्रतिनिधियों ने बातचीत करने का प्रयास किया, लेकिन उन्होंने मामला जांच में होने का हवाला देकर किसी तरह की पूर्ण जानकारी देने से इनकार किया.

Print
Facebook
Twitter
Telegram
WhatsApp
जाने छठ पूजा से जुड़ी ये खास बाते विराट कोहली का जन्म एक मध्यमवर्गीय परिवार में 5 नवंबर 1988 को हुआ. बॉलीवुड की ये top 5 फेमस अभिनेत्रिया, जिन्होंने क्रिकेटर्स के साथ की शादी दिवाली पर पिछले 500 सालों में नहीं बना ऐसा दुर्लभ महासंयोग सोना खरीदने से पहले खुद पहचानें असली है या नकली धनतेरस में भूल कर भी न ख़रीदे ये वस्तुएं दिवाली पर रंगोली कहीं गलत तो नहीं बना रहे Ananya Panday करेगीं अपने से 13 साल बड़े Actor से शादी WhatsApp में आ रहे 5 कमाल के फीचर ये कपल को जमकर किया जा रहा ट्रोल…बच्ची जैसी दिखती है पत्नी