July 12, 2024 4:43 pm
Search
Close this search box.
Srinath University Adv (1)

आज जमशेदपुर में उत्थान सीबीओ झारखंड के द्वारा एलजीबीटी प्राइड की शुरुआत की गई

_उत्थान सीबीओ झारखंड के द्वारा एलजीबीटी प्राइड की शुरुआत की गई

सोशल संवाद / जमशेदपुर : उत्थान सीबीओ ने झारखंड में एलजीबीटी प्राइड की शुरुआत की.  उत्थान सी.बी.ओ के सचिव अमरजीत सिंह ने बताया कि 2017 में उन्होंने पहली प्राइड की थी जिसको वो आज तक करते आ रहे हैं. एल.जी.बी.टी की यह प्राइड जमशेदपुर में अप्रैल माह को होती थी इस बार आचारसंहिता की वजह से प्राइड को उन्होंने प्राइड माह में किया.  अब से प्राइड माह में ही प्राइड की जाएगी क्योंकि यह माह प्राइड माह है सम्पूर्ण देश मे इसको प्राइड माह के रूप मे मनाया जाता है.

यह भी पढ़े : झारखंड में सक्रिय होने लगा मानसून, इन जिलों में बज्रपात के साथ भारी बारिश की संभावना

रांची जमशेदपुर मार्च प्राइड करने का उद्देश्य ये है कि लोग भी समुदाय के उत्सव को देखे . समुदाय की भी बहुत सारी ज़रूरतें हैं जो सरकार अभी तक नहीं सुनी . तृतीय लिंग समुदाय हमेशा सरकार से अपनी मांगों को रखता है लेकिन हर बार उनकी मांगों को अनसुना कर दिया जाता है .15 तारीख को उन्होंने यही प्राइड मार्च रांची फिरायालाल चोक में भी निकाली और सरकार को संदेश दिया की रोटी कपड़ा और मकान जैसे सुविधाएं हर समुदाय को मिलनी चाहिए इसमें हमारा भी अधिकार है .अभी तक आवास की सुविधा सरकार ने समुदाय को नहीं दी न ही किसी भी व्यक्ति को पेंशन मिल रही है. सरकार को सरकारी वैकेंसी निकालना चाहिए जिसमें तृतीय लिंग समुदाय को लेना चाहिए क्योंकि दिन-ब-दिन संख्या बढ़ रही है लोग सड़कों पर मांगने पर मजबूर हो रहे हैं . सरकार को इस पर ध्यान देना चाहिए सभी व्यक्ति को पेंशन आवास और सारी ज़रूरतें देनी होगी .

नालसा जजमेंट 2014 में आई उन्हें सभी राज्य सरकारों का आदेश दिया कि सभी राज्य सरकारी वेलफेयर बोर्ड बनाएं आज झारखंड को 10 वर्ष पूरे हो गए लेकिन झारखंड में अभी तक वेलफेयर बोर्ड नहीं बना समुदाय कब तक चुप रहेगी सरकार को सुना होगा.

जमशेदपुर जे.एन.एक.सी  ने भी काफी वादे किए लेकिन वादों को सिर्फ पेपर तक ही रखा वादों को कभी पूरा नहीं किया .एक दिन तृतीय लिंग समुदाय उनसे भी प्रश्न करेगा और उनको उसे पत्र का जवाब देना होगा. प्राइड में उषा सिंह और यू थिंक इंटक के अध्यक्ष राकेशेश्वर पांडे ,टी.आई आर्गेनाईजेशन से (संस्कार) जितेंद्र, (ए.जी.वी एस.एस), पंकज जी आईसीटीसी काउंसलर डॉ रामचंद्र सिंह एफ.पी.ए.आई रानियाँ  विहान नीरज सिंह और समाजसेवी तरुण तथा विभिन्न जिलों से तृतीय लिंग समुदाय मौजूद रहे.

Print
Facebook
Twitter
Telegram
WhatsApp
जाने छठ पूजा से जुड़ी ये खास बाते विराट कोहली का जन्म एक मध्यमवर्गीय परिवार में 5 नवंबर 1988 को हुआ. बॉलीवुड की ये top 5 फेमस अभिनेत्रिया, जिन्होंने क्रिकेटर्स के साथ की शादी दिवाली पर पिछले 500 सालों में नहीं बना ऐसा दुर्लभ महासंयोग सोना खरीदने से पहले खुद पहचानें असली है या नकली धनतेरस में भूल कर भी न ख़रीदे ये वस्तुएं दिवाली पर रंगोली कहीं गलत तो नहीं बना रहे Ananya Panday करेगीं अपने से 13 साल बड़े Actor से शादी WhatsApp में आ रहे 5 कमाल के फीचर ये कपल को जमकर किया जा रहा ट्रोल…बच्ची जैसी दिखती है पत्नी