April 24, 2024 12:22 pm
Search
Close this search box.
Srinath University Adv (1)

वक्त पर Blood Cancer का पता लगाकर बचा सकते हैं बच्चों की जान

Xavier Public School april

सोशल संवाद /डेस्क: कैंसर एक ऐसी बीमारी है.जो की शरीर के अंदर कोशिकाएं असामान्य रूप से विभाजित होता है और ये किसी भी उम्र में हो सकता है. खासकर Leukemia कैंसर बच्चों ज्यादातर होता है.वक्त पर इसका इलाज न होने से जानलेवा साबित हो सकता है.

तो आइए जानते है Leukemia कैंसर लक्षण

क्या हैं इसके लक्षण?

बच्चों में ल्यूकेमिया के शुरुआती लक्षणों में, बिना किसी कारण के बार-बार थकान महसूस करना, अक्सर इन्फेक्शन का शिकार होना, आसानी से नील पड़ना या ब्लीडिंग होना, जोड़ों या हड्डियों में दर्द, लिम्फ नोड्स में सूजन और अकारण वजन कम होना शामिल हैं। बच्चों में इनमें से एक या एक से अधिक लक्षण नजर आना, किसी अन्य बीमारी का संकेत भी हो सकते हैं, लेकिन अगर ये लक्षण लगातार बने रहें या स्थिति बिगड़ने लगे, तो डॉक्टर से इस बारे में सलाह लेना आवश्यक हो जाता है.

कैसे लगा सकते हैं ल्यूकेमिया का पता?

ल्यूकेमिया का जल्द से जल्द पता लगाने के लिए नियमित जांच और स्क्रीनिंग काफी महत्वपूर्ण हैं.बच्चों में ऐसी गंभीर बीमारियों का पता लगाने के लिए बाल रोग विशेषज्ञ अक्सर बच्चों के वार्षिक शारीरिक परीक्षण के दौरान उनका ब्लड टेस्ट करते हैं, जिसमें रेड ब्लड सेल्स, व्हाइट ब्लड सेल्स, प्लेटलेट्स आदि में कोई असामनता तो नहीं है, इस पर ध्यान दिया जाता है. इनकी असामान्य मात्रा यानी व्हाइट ब्लड सेल्स की अधिक मात्रा, रेड ब्लड सेल्स और प्लेटलेट्स की मात्रा कम होना ल्यूकेमिया की ओर संकेत करती है.

शारीरिक बदलावों के साथ-साथ माता-पिता को बच्चों में होने वाले भावनात्मक बदलावों पर भी ध्यान देना चाहिए. बच्चे द्वारा बार-बार दर्द या थकान की शिकायत, भूख में बदलाव या शरीर में पीलापन नजर आने पर, किसी बाल विशेषज्ञ से संपर्क करना सबसे बेहतर विकल्प होता है. अपने पारिवारिक मेडिकल इतिहास के बारे में जानकारी होना भी काफी महत्वपूर्ण होता है.परिवार में किसी नजदीकी रिश्तेदार को कैंसर होना, बच्चों में इसके खतरे को बढ़ा देता है. जेनेटिक कारणों से ल्यूकेमिया का खतरा बच्चों में अधिक रहता है. इसलिए अपने परिवार के मेडिकल इतिहास के बारे में अपने डॉक्टर को जरूर बताएं ताकि बच्चे में मौजूद इसके रिस्क फैक्टर्स का बेहतर तरीके से मूल्यांकन हो पाए.

बच्चों से बात करें…

इन बातों के अलावा, अपने बच्चे के साथ खुलकर बात-चीत करना भी काफी महत्वपूर्ण है. अपने बच्चे को प्रोत्साहित करें कि वे किसी भी परेशानी या चिंता के बारे में आपसे बेझिझक बात कर सकते हैं. शरीर में होने वाले किसी बदलाव के बारे में या उनके साथ भावनात्मक रूप से कोई बदलाव हो रहा हो, इन बातों के बारे में वक्त पर पता लगाने से, ल्यूकेमिया का शीघ्र पता लगाने में मदद मिल सकती है.

अगर आपको ऐसा लग रहा है कि आपके बच्चे के साथ कोई परेशानी है, तो बेझिझक डॉक्टर से संपर्क करें. ल्यूकेमिया का शीघ्र पता लगाने के लिए बच्चों में हो रहे बदलावों के प्रति सतर्क रहना काफी आवश्यक है. इसका जल्द से जल्द पता लगाने से, इसके बेहतर इलाज का संभावना बढ़ जाती है.सतर्क और सक्रिय रहकर, हम ल्यूकेमिया से प्रभावित बच्चों के लिए बेहतर संभव परिणाम सुनिश्चित करने में मदद कर सकते हैं.

Print
Facebook
Twitter
Telegram
WhatsApp
जाने छठ पूजा से जुड़ी ये खास बाते विराट कोहली का जन्म एक मध्यमवर्गीय परिवार में 5 नवंबर 1988 को हुआ. बॉलीवुड की ये top 5 फेमस अभिनेत्रिया, जिन्होंने क्रिकेटर्स के साथ की शादी दिवाली पर पिछले 500 सालों में नहीं बना ऐसा दुर्लभ महासंयोग सोना खरीदने से पहले खुद पहचानें असली है या नकली धनतेरस में भूल कर भी न ख़रीदे ये वस्तुएं दिवाली पर रंगोली कहीं गलत तो नहीं बना रहे Ananya Panday करेगीं अपने से 13 साल बड़े Actor से शादी WhatsApp में आ रहे 5 कमाल के फीचर ये कपल को जमकर किया जा रहा ट्रोल…बच्ची जैसी दिखती है पत्नी