February 27, 2024 3:56 pm

आप भी खींचकर तोड़ देते हैं सफेद बाल? तो हो जाएं सावधान

सोशल संवाद /डेस्क : बढ़ती उम्र के साथ-साथ बालो का सफेद होना नेचुरल प्रोसेस है. सिर पर नजर आ रहे एक या दो सफेद बालों को लेकर लोग बहुत ज्यादा टेंशन में आ जाते हैं और इसके लिए डाई कलरिंग जैसे ऑप्शन चुनने के बजाय उन्हें खींचकर तोड़ना बेस्ट ऑप्शन समझते हैं पर क्या आपको पता है इससे इन्फेक्शन खुजली जलन जैसी और भी कई तरह की समस्याएं हो सकती हैं.

तो आइये जानते है विस्तार से:-

बाल सफेद होने की वजहें 

जैसे-जैसे उम्र बढ़ती है, वैसे-वैसे मेलेनिन और बालों के कलर को बनाए रखने वाले पिगमेंट्स भी कम होते चले जाते हैं. हर एक हेयर फॉलिकल में पिगमेंट बनाने वाले सेल्स होते हैं, जिन्हें मेलानोसाइट्स के नाम से जाना जाता है. बढ़ती उम्र के साथ इन सेल्स की एक्टिविटी कम होती जाती है, मतलब मेलेनिन बनाने का जो काम है जो बंद हो जाता है.जिस वजह से बालों का रंग सफेद आने लगता है।.

सफेद बालों को तोड़ने के नुकसान 

सिर में खुजली व जलन 

बालों को खींचकर तोड़ने से स्कैल्प में तेज खुजली, जलन और रैशेज की भी प्रॉब्लम हो सकती है.सेंसिटिव स्किन वालों की तो प्रॉब्लम और ज्यादा बढ़ सकती है.

हो सकता है इन्फेक्शन 

जब आप बालों को खींचकर तोड़ते हैं, तो इससे होने वाली तेज खुजली को मिटाने के लिए बार-बार खुजलाने से इन्फेक्शन हो सकता है और समय रहते इसका उपचार न किया जाए, तो ये इन्फेक्शन पूरे स्कैल्प को प्रभावित कर सकता है.

हेयर ग्रोथ

सफेद बालों को खींचकर तोड़ने की आदत से हेयर फॉलिकल्स कमज़ोर होते जाते हैं. जिसका असर बालों की ग्रोथ और टेक्सचर पर देखने को मिलता है.

हाइपरपिग्मेंटेशन का रिस्क

अगर आप सफेद बालों से छुटकारा पाने के लिए उसे तोड़ते रहते हैं, तो आपको बता दें कि इससे उन बालों की जगह नए बाल नहीं उगते, बल्कि उनकी जगह काले धब्बे बनने लगते हैं और ये इसका असर बालों की ग्रोथ पर देखने को मिलता है.

Our channels

और पढ़ें