February 27, 2024 3:17 pm

क्‍या है लालू यादव को पहली बार ED का समन म‍िलने का कारण?

ED

सोशल संवाद/डेस्क : ED ने रेलवे में नौकरी के बदले जमीन मनी लॉन्‍ड्र‍िंग मामले की जांच के क्रम में बिहार के उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव और उनके पिता और राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के प्रमुख लालू प्रसाद को पूछताछ के लिए तलब किया है. यह जानकारी आधिकारिक सूत्रों ने बुधवार को दी. तेजस्वी (34) को 22 दिसंबर को संघीय एजेंसी के दिल्ली कार्यालय में पेश होने के लिए कहा गया है, वहीं लालू प्रसाद (75) को अगले सप्ताह 27 दिसंबर को धनशोधन रोकथाम अधिनियम (पीएमएलए) के तहत अपने बयान दर्ज कराने के लिए पेश होने को कहा गया है. इस मामले में ईडी 11 अप्रैल को तेजस्वी यादव से करीब आठ घंटे तक पूछताछ कर चुकी है, लेकिन यह पहली बार है जब उसने लालू प्रसाद को जांच में शामिल होने के लिए समन किया है.

यह भी पढ़े : Horoscope : जानें आज का कैसा होगा आपका दिन

यह समन लालू प्रसाद परिवार के एक कथित ‘करीबी सहयोगी’ अमित कात्याल से पूछताछ के बाद आया है. कात्याल को ईडी ने नवंबर में गिरफ्तार किया था. कथित घोटाला उस समय का है जब लालू प्रसाद संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग)-1 सरकार में रेल मंत्री थे. आरोप है कि 2004 से 2009 तक, भारतीय रेलवे के विभिन्न जोन में समूह ‘डी’ पदों पर कई व्यक्तियों को नियुक्त किया गया था और बदले में, इन व्यक्तियों ने अपनी जमीन तत्कालीन रेल मंत्री लालू प्रसाद के परिवार के सदस्यों और एक संबंधित कंपनी ए. के. इन्फोसिस्टम्स प्राइवेट लिमिटेड को हस्तांतरित कर दी थी.

कौन है अम‍ित कत्‍याल?
जांच एजेंसी ईडी ने 11 नवंबर को अमित कत्याल नाम के एक आरोपी को गिरफ्तार किया था. जांच एजेंसी के सूत्रों का आरोप है क‍ि इस आरोपी का बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और केंद्रीय मंत्री लालू प्रसाद यादव और उनके पुत्र तेजस्वी यादव जो मौजूदा वक्त में बिहार सरकार में उपमुख्यमंत्री भी हैं उनके साथ बहुत ही करीबी संबंध है.

कत्‍याल पर क्‍या है आरोप?
ईडी ने पहले एक बयान में दावा किया था कि कात्याल इस कंपनी के निदेशक थे, जब इसने ‘लालू प्रसाद की ओर से’ अभ्यर्थियों से जमीन हासिल की थी. एजेंसी ने आरोप लगाया था क‍ि कंपनी का पंजीकृत पता डी-1088, न्यू फ्रेंड्स कॉलोनी, नई दिल्ली है, जो लालू प्रसाद यादव और उनके परिवार के सदस्यों का घर है. इसने कहा क‍ि लालू प्रसाद यादव जब रेल मंत्री थे, तब उनके द्वारा अनुचित लाभ पहुंचाने के बदले में अमित कात्याल ने उक्त कंपनी में कई अन्य जमीन भी ली थीं.

Our channels

और पढ़ें