February 24, 2024 5:06 pm

टाटा मोटर्स वर्कर्स यूनियन एवं टाटा मोटर्स प्रबंधन के बीच एक समझौता हुआ

सोशल संवाद/डेस्क :  टाटा मोटर्स वर्कर्स यूनियन एवं टाटा मोटर्स प्रबंधन के बीच एक समझौता हुआ। यह समझौता कल एक अस्थाई कर्मी श्रीराम शर्मा टाटा मोटर्स  एक्सेल डिविजन के देहांत के बाद उनके परिवार को सहायता प्रदान करने के लिए की गई। श्रीराम शर्मा के परिजन सुबह 10:00 बजे उनकी पत्नी, उनके पिता, उनके पुत्र पुत्री के साथ उनके परिवार के कई सदस्य यूनियन कार्यालय पहुंचे और अध्यक्ष महामंत्री से अपने परिवार के भरण पोषण के लिए उनके सुपुत्र को रोजगार देने का अनुरोध किया। साथ ही साथ प्लांट हेड महोदय को एक लिखित पत्र परिवार की ओर से उनकी धर्मपत्नी ने दिया।

इसके उपरांत प्रबंधन एवं यूनियन के बीच दिनभर कई वार्ता का दौरा चला। विभिन्न विषयों पर बातचीत के बाद अंतिम निर्णय के रूप में इन बिंदुओं को सहमति की गई पुत्र को क्षात्रवृति सहित 3 साल के डिप्लोमा के बाद टाटा मोटर्स में स्थाई नौकरी एवं पुत्री को प्लस टू तक की पढ़ाई के लिए सालाना ₹36000 एवं उनकी पत्नी को अस्थाई सेवा निधि के तौर पर लगभग 30 लाख रुपए एवं उनके पीएफ के 10:30 लाख रुपए लगभग दिया जाना तय हुआ।

उनके पुत्र और पुत्री को प्रबंधन के द्वारा लिखा हुआ पत्र यूनियन के अध्यक्ष श्री गुरमीत सिंह, महामंत्री आर के सिंह, ई आर हेड सौमिक रॉय और  अधिकारी ने संयुक्त रूप से देने का काम किया। उनके साथ आए हुए परिजन एवं सामाजिक लोगों ने प्रबंधन और यूनियन को इस समझौते के लिए हृदय से धन्यवाद दिया और इस पहल के लिए आभार भी व्यक्त किया। निश्चित तौर पर टाटा मोटर्स प्रबंधन ने एक नई पहल करते हुए इस तरह का समझौता किया है। इसके लिए वी पी विशाल बादशाह, वरीय पदाधिकारी सीताराम कांडी, प्लांट हेड रविन्द्र कुलकर्णी, एच आर हेड मोहन घंट, ई आर हेड सौमिक रॉय एवं अन्य वरीय अधिकारियों को यूनियन के अध्यक्ष गुरमीत सिंह,  महामंत्री आर के सिंह ने बहुत-बहुत धन्यवाद दिया।

Our channels

और पढ़ें