March 4, 2024 5:50 pm

एमजीएम के डायमंड जुबली समारोह में डॉक्टर कर रहे हैं पुरानी यादों को ताजा

Advertise

सोशल संवाद/डेस्क : जमशेदपुर एमजीएम मेडिकल कॉलेज के लगभग 70 वर्ष पूर्व छात्रों ने मेडिकल कॉलेज के डायमंड जुबली समारोह में शामिल होकर अपनी पुरानी यादों को ताजा किया। कॉलेज स्थापना के 62 वर्ष बाद एक साथ एकत्रित हुए। अपने पुराने मित्रों से और 200 से मिलकर कई डॉक्टरों की आंखें भर आए। सभी डॉक्टरों ने आपस में अपने कॉलेज जीवन की चर्चा की। सभी डॉक्टर मस्ती मजाक में एक दूसरे की पोल खोलते दिखाई दे रहे थे। वहीं महिला डॉक्टर एक दूसरे की सहेलियों से मिलकर सेल्फी ले रही थी। इस इस समारोह में एमजीएम कॉलेज के कई पूर्व छात्र अमेरिका ,इंग्लैंड ,ऑस्ट्रेलिया, कनाडा ,सऊदी अरब ,सहित अन्य देशों में चिकित्सक के रूप में कार्य कर रहे हैं। अपने समय का बंधन तोड़ते हुए इन्होंने इस वर्ष डायमंड जो भी समझ में शामिल हुए।

सभी डॉक्टर अलग-अलग देशों से आए हैं इतने व्यस्तता में भी अपना समय निकालकर एमजीएम कॉलेज के डायमंड जुबली समारोह में शामिल होकर अपने पुराना दोस्तों शामिल कर उन्हें बहुत ही आनंद आ रहा है। तीन दिनों तक चलने वाले इस समारोह में शुक्रवार को पहले ही दिन बेल्डीह गोल्फ कोर्स में इसका उद्घाटन डॉक्टर एसपी जखनवाल ,डॉ सुनील कुमार ,डॉक्टर केके सिंह ,डॉक्टर अजीत सहाय ,डॉक्टर के पी दुबे ,डॉक्टर आर भारत ,डॉक्टर मधु चोपड़ा ,डॉक्टर संतोष गुप्ता ,डॉक्टर रवि ,डॉक्टर विनोद ,डॉक्टर सुरेंद्र कौर ,सहित अन्य लोगों ने संयुक्त रूप से किया।

साथ ही सांस्कृतिक कार्यक्रम का भी आयोजन हुआ। इसके साथ ही पत्रिका का भी विमोचन किया गया है और जहां डॉक्टरों ने डांस करते हुए खूब मस्ती की इस दौरान डॉक्टर सुनील गुप्ता, डॉक्टर संतोष गुप्ता ,डॉक्टर के पी दुबे ,डॉक्टर मंजू दुबे, डॉक्टर बीना सिंह, मृत्युंजय सिंह ,डॉक्टर अरुण कुमार ,डॉक्टर एक लाल, डॉक्टर के के सिंह ,डॉक्टर जी सी माझी ,डॉ अजीत सहाय, डॉक्टर के के सिंह आदि मौजूद थे।

अभिनेत्री प्रियंका चोपड़ा की मां डॉ मधु चोपड़ा शुक्रवार को समझ में भाग लेने के लिए शहर पहुंची डॉक्टर मधु चोपड़ा मेडिकल कॉलेज की 1970 बैच की छात्रा रही हैं उन्होंने बताया कि इस पूर्व छात्र पुनर्मिलन ने इतने सालों के बाद एक दूसरे से मिलने का अवसर प्रदान किया है या उनके लिए उन परिवर्तनों को देखने का अवसर भी है जो इस संस्था में पिछले कई वर्षों में हुए हैं उन्होंने कहा कि कॉलेज से जुड़ी बहुत ही यादें हैं। आज मेडिकल क्वालिटी में कमी आई है।

Our channels

और पढ़ें