May 21, 2024 6:28 am
Search
Close this search box.
Srinath University Adv (1)

मैनपुरी में आयोजित क्रांतितीर्थ समारोह में 150 स्वतंत्रता सेनानियों के परिवारजनों का सम्मान 

Xavier Public School april

सोशल संवाद/डेस्क : स्वतंत्रता संग्राम के वीर सेनानियों को याद करने और उन्हें श्रद्धांजलि देने के लिए बलिदानियों  की नगरी मैनपुरी में क्रांतितीर्थ समारोह का आयोजन किया गया I मैनपुरी स्थित श्रीदेवी मेला एवं ग्राम सुधार प्रदर्शनी कादंबरी मंच स्थल पर आयोजित समारोह में 150 स्वतंत्रता सेनानियों के परिवारजनों को सम्मानित किया गया I

जानकारी हो कि भारत को अंग्रेजों की गुलामी से मुक्त कराने के लिए हजारों वीर सिपाहियों और क्रांतिकारियों ने अपने प्राणों की भेंट चढ़ा दी I लेकिन उनकी गाथाओं को इतिहास के पृष्ठों में स्थान नहीं मिला I स्वतंत्रता संग्राम के ऐसे गुमनाम एवं अल्पज्ञात सेनानियों की वीरगाथा को आम जनता के सामने लाने का बीड़ा उठाया है-केंद्र सरकार के संस्कृति मंत्रालय और सेंटर फॉर एडवांस्ड रिसर्च ऑन डेवलपमेंट एंड चेंज (सीएआरडीसी) ने और इसमें संस्कार भारती सहयोगी की भूमिका में है I ‘आजादी के अमृत महोत्सव’ के अवसर पर क्रान्तितीर्थ श्रृंखला का आयोजन संस्कृति मंत्रालय एवं सीएआरडीसी द्वारा गुमनाम एवं अल्पज्ञात स्वतंत्रता सेनानियों के योगदान को सामने लाने के लिए पूरे देश में किया जा रहा है I

मैनपुरी में आयोजित क्रांतितीर्थ समारोह में मुख्य अतिथि कैबिनेट मंत्री जयवीर सिंह ने देश की आजादी के लिए मर मिटने वाले अमर शहीदों की चर्चा करते हुए जिले के 150 से अधिक स्वतंत्रता सेनानियों के वंशजों को अंग वस्त्र और स्मृति चिन्ह भेंट कर सम्मानित किया। इस मौके पर कैबिनेट मंत्री जयवीर सिंह ने कहा कि जिन अमर सेनानियों के बलिदान से हमें आजादी मिली है, उसे अक्षुण्य रखना सभी का दायित्व है। क्रांतितीर्थ समारोह एक शृंखला मात्र नहीं है, अपितु यह एक अभियान है, उन बलिदानियों को श्रद्धांजलि देने का जिन्होंने अनेक कष्ट सहे और अपना जीवन, अपना सर्वस्व देश की स्वतंत्रता के लिए के लिए समर्पित कर दिया I

समारोह के मुख्य वक्ता एवं चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय के इतिहास विभागाध्यक्ष डा.विध्नेश कुमार त्यागी ने कहा कि आजादी में मैनपुरी का विशेष योगदान रहा। महाराजा तेज सिंह ने 1857 में आजादी का जो बिगुल फूंका, उसका प्रभाव आसपास के सभी जिलों में पड़ा। मातृवेदी जैसी संस्था से जुड़े युवाओं ने आजादी के लिए संगठित मुहिम छेड़ दी। ऐसे अमर सेनानियों के बलिदान के बल पर ही हम आजादी की सांस ले रहे हैं।

समारोह में स्कूली बच्चों ने देशभक्ति पर आधारित सांस्कृतिक प्रस्तुतियां दीं। समारोह में जिलाधिकारी अविनाश कृष्ण, पुलिस अधीक्षक विनोद कुमार, प्रथम स्वतन्त्रता संग्राम के सेनानी महाराजा तेज सिंह जूदेव के प्रपौत्र यशदीप सिंह, वीरेन्द्र सिंह चौहान, बांकेलाल, विनोद कुमार, रामजी मिश्र, सुमित चौहान, अनुपम गुप्ता सहित नगर के सैकड़ों लोगों ने हिस्सा लिया I समारोह की अध्यक्षता डा. सतीश चन्द्र गुप्ता और संचालन कवि सतीश मधुप ने किया।

Print
Facebook
Twitter
Telegram
WhatsApp
जाने छठ पूजा से जुड़ी ये खास बाते विराट कोहली का जन्म एक मध्यमवर्गीय परिवार में 5 नवंबर 1988 को हुआ. बॉलीवुड की ये top 5 फेमस अभिनेत्रिया, जिन्होंने क्रिकेटर्स के साथ की शादी दिवाली पर पिछले 500 सालों में नहीं बना ऐसा दुर्लभ महासंयोग सोना खरीदने से पहले खुद पहचानें असली है या नकली धनतेरस में भूल कर भी न ख़रीदे ये वस्तुएं दिवाली पर रंगोली कहीं गलत तो नहीं बना रहे Ananya Panday करेगीं अपने से 13 साल बड़े Actor से शादी WhatsApp में आ रहे 5 कमाल के फीचर ये कपल को जमकर किया जा रहा ट्रोल…बच्ची जैसी दिखती है पत्नी