June 18, 2024 4:42 pm
Search
Close this search box.
Srinath University Adv (1)

जम्मू में क्रान्तितीर्थ समारोह का आयोजन, 2047 तक वीरों के स्वप्न वाले भारत के निर्माण का संकल्प

sona davi ad june 1

सोशल संवाद/डेस्क : स्वतंत्रता संग्राम के गुमनाम एवं अल्पज्ञात सेनानियों की वीरगाथा को आम जनता के सामने लाने और उन्हें श्रद्धांजलि देने के उद्देश्य से क्रान्तितीर्थ समारोह का आयोजन आज जम्मू विश्वविद्यालय के जनरल जोरावर सिंह सभागार में संपन्न हुआ I समारोह के विशिष्ट अतिथि सम्माननीय समाजसेवी एवं जम्मू डेंटल कॉलेज के पूर्व प्रधानाचार्य डॉ. गौतम मेंगी थे, जबकि मुख्य वक्ता के रूप में जम्मू-कश्मीर अध्ययन केंद्र के निदेशक आशुतोष भटनागर ने हिस्सा लिया I समारोह की अध्यक्षता जम्मू विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. उमेश राय ने कीI

स्वतंत्रता सेनानियों को श्रद्धांजलि देने हेतु आयोजित क्रान्तितीर्थ समारोह में बाबा सत्यनारायण मौर्य द्वारा “भारत माता की आरती” का आयोजन भी किया गया I जम्मू-कश्मीर पीपुल्स फोरम (जेकेपीएफ) एवं सेंटर फॉर एडवांस रिसर्च और डेवलपमेंट एंड चेंज (सी.ए.आर.डी.सी) द्वारा संयुक्त रूप से आयोजित समारोह में कई गणमान्य व्यक्ति एवं सैकड़ों की संख्या में लोग मौजूद रहे I

जानकारी हो कि अंग्रेजों की गुलामी से भारत को मुक्त कराने के लिए हजारों ऐसे वीर क्रांतिकारियों ने अपने प्राणों की भेंट चढ़ा दी, जिनकी वीर गाथाओं को इतिहास के पृष्ठों में स्थान नहीं मिला I स्वतंत्रता संग्राम के ऐसे गुमनाम एवं अल्पज्ञात सेनानियों की वीरगाथा को क्रान्ति तीर्थ समारोह के माध्यम से आम जनता के सामने लाने का बीड़ा उठाया है-केंद्र सरकार के संस्कृति मंत्रालय और सेंटर फॉर एडवांस्ड रिसर्च ऑन डेवलपमेंट एंड चेंज (सीएआरडीसी) ने I इसमें संस्कार भारती अहम सहयोगी की भूमिका निभा रहा है I क्रान्तितीर्थ श्रृंखला का आयोजन ‘आजादी के अमृत महोत्सव’ के अवसर पर पूरे देश में किया जा रहा है I

कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ जम्मू कश्मीर के प्रांत संघचालक डॉ. गौतम मेंगी ने कहा कि जम्मू-कश्मीर की धरती सदैव बलिदानों की धरती रही है। राज्य की देशभक्त जनता ने हमेशा देश की एकता, अखंडता, सुरक्षा और शांति के लिए सर्वोच्च बलिदान दिया है और आज हमारा कर्तव्य है कि हम ऐसे सभी नायकों को याद करें एवं उन्हें अपनी सच्ची श्रद्धांजलि अर्पित करें। क्रांतितीर्थ इस दिशा में एक बेहतरीन पहल है। अपने संबोधन में उन्होंने भारत के स्वतंत्रता आंदोलन में जम्मू कश्मीर की भूमिका पर भी प्रकाश डालते हुए केंद्र शासित प्रदेश की महत्वपूर्ण घटनाओं और स्वतंत्रता सेनानियों का उल्लेख किया।

कार्यक्रम के बाद भारत माता की आरती हुई, जिसे बाबा सत्यनाराण मौर्य जी ने अपनी टीम के साथ प्रस्तुत किया, जबकि संस्कार भारती से जुड़े सार्थक जी ने राष्ट्र गीत प्रस्तुत करके सभी लोगों को मंत्रमुग्ध कर दिया I समारोह में प्रो. राजीव रतन ने धन्यवाद ज्ञापन प्रस्तुत किया, जबकि अधिवक्ता हर्षवर्धन ने कार्यक्रम की कार्यवाही का संचालन किया। समारोह में जम्मू-कश्मीर पीपुल्स फोरम के अध्यक्ष रमेश सब्बरवाल, अशोक गुप्ता, रघु मेहता सहित सीएआरडीसी, राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ, संस्कार भारती के पदाधिकारियों के साथ ही कई प्रमुख नागरिक, नागरिक समाज के सदस्य, संकाय सदस्य, छात्र, विद्वान आदि स्थानीय लोग भी परिवार सहित उपस्थित थे।

Print
Facebook
Twitter
Telegram
WhatsApp
जाने छठ पूजा से जुड़ी ये खास बाते विराट कोहली का जन्म एक मध्यमवर्गीय परिवार में 5 नवंबर 1988 को हुआ. बॉलीवुड की ये top 5 फेमस अभिनेत्रिया, जिन्होंने क्रिकेटर्स के साथ की शादी दिवाली पर पिछले 500 सालों में नहीं बना ऐसा दुर्लभ महासंयोग सोना खरीदने से पहले खुद पहचानें असली है या नकली धनतेरस में भूल कर भी न ख़रीदे ये वस्तुएं दिवाली पर रंगोली कहीं गलत तो नहीं बना रहे Ananya Panday करेगीं अपने से 13 साल बड़े Actor से शादी WhatsApp में आ रहे 5 कमाल के फीचर ये कपल को जमकर किया जा रहा ट्रोल…बच्ची जैसी दिखती है पत्नी