June 18, 2024 5:24 pm
Search
Close this search box.
Srinath University Adv (1)

मनरेगा झारखंड | Mgnrega Jharkhand

मनरेगा झारखंड
sona davi ad june 1

राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम 2005 एक भारतीय श्रम कानून और सामाजिक सुरक्षा उपाय है जिसका उद्देश्य’ कार्य करने का अधिकार ‘है। इसका लक्ष्य ग्रामीण क्षेत्रों में रोज़गार की सुरक्षा को बढ़ाने के लिए एक वित्तीय वर्ष में कम से कम 100 दिनों की  रोज़गार प्रदान करने के लिए हर परिवार के लिए है, जिनके वयस्क सदस्य अकुशल मैनुअल काम करते हैं।

यह भी पढ़े : नरेगा झारखंड | Narega jharkhand

मनरेगा क्या है | Mgnrega Kya hai 

मनरेगा को “एक वित्तीय वर्ष में कम से कम 100 दिनों की गारंटीकृत मजदूरी रोजगार प्रदान करके ग्रामीण क्षेत्रों में आजीविका सुरक्षा को बढ़ाने के उद्देश्य से शुरू किया गया था, जिसके लिए प्रत्येक परिवार के वयस्क सदस्यों को अकुशल मैनुअल काम करने के लिए स्वयंसेवा किया गया था।” मनरेगा का एक और उद्देश्य है टिकाऊ संपत्तियां(जैसे सड़कों, नहरों, तालाबों, कुओं)का निर्माण करें आवेदक के निवास के 5 किमी के भीतर रोजगार उपलब्ध कराया जाना है, और न्यूनतम मजदूरी का भुगतान करना है। यदि आवेदन करने के 15 दिनों के भीतर काम नहीं किया गया है, तो आवेदक बेरोजगारी भत्ता के हकदार हैं। इस प्रकार, मनरेगा के तहत रोजगार एक कानूनी हकदार है।

रेगा में कितना पैसा मिलता है | Mgnrega me kitna paisa milta hai 

नरेगा या मनरेगा के अंतर्गत मिलने वाली 100 दिन की नौकरी का पैसा सरकार सीधे श्रमिक के बैंक अकाउंट में भेज देती है। आज हर पंचायत में बहुत सारे ग्रामीण श्रमिक ऐसे हैं जो नरेगा मनरेगा के पैसे की जानकारी जॉब कार्ड के जरिए ऑनलाइन नहीं देख पाते है।

मनरेगा में कौन काम कर सकता है | Mgnrega me kaun kaam kar sakta hai  

देशभर में भारत सरकार के ग्रामीण विकास मंत्रालय द्वारा राज्ये सरकारों की सहायता से महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना (मनरेगा) का क्रियान्वयन किया जा रहा है। यह योजना बीपीएल परिवारों के बेरोजगार लोगों को उनके घर से 5 किलोमीटर के दायरे में 100 दिन के काम की गारंटी देती है।

मनरेगा की 1 दिन की सैलरी कितनी है| Mgnrega ki 1 Din ki salary kitni hai 

मनरेगा  में एक दिन की सैलरी 255 रुपये प्रति दिन है, जो कि 2022-23 में 231 रुपये था. वही, बिहार और झारखंड ने पिछले साल की तुलना में लगभग आठ प्रतिशत की वृद्धि की है. पिछले साल इन दोनों राज्यों में मनरेगा के तहत 210 रुपये प्रतिदिन के हिसाब से भुगतान किया जाता था, अब इसे संशोधित कर 228 रुपये कर दिया गया है।

मनरेगा में कितने घंटे काम करना पड़ता है| Mgnrega me kitne ghante kaam karana padta hai 

जिला कार्यक्रम समन्वयक एवं कलेक्टर बीएल कोठारी ने बताया कि महात्मा गांधी नरेगा योजनांतर्गत गर्मी के मौसम को देखते हुए श्रमिकों के लिए कार्य का समय सवेरे 6.30 बजे से दोपहर 2 बजे तक विश्रामकाल को सम्मिलित करते हुए निर्धारित किया गया हैं। इस अवधि के दौरान सवेरे 10.30 बजे से प्रात: 11 बजे तक भोजन-विश्राम का समय रहेगा।

मनरेगा कितने दिनों तक का काम देता है| Mgnrega kitne dino tak ka kaam deta hai 

मनरेगा का जनादेश प्रत्येक ग्रामीण परिवार को एक वित्तीय वर्ष में कम से कम 100 दिनों का गारंटीकृत मजदूरी रोजगार प्रदान करना है, जिसके वयस्क सदस्य अकुशल शारीरिक कार्य करने के लिए स्वेच्छा से काम करते हैं।

Print
Facebook
Twitter
Telegram
WhatsApp
जाने छठ पूजा से जुड़ी ये खास बाते विराट कोहली का जन्म एक मध्यमवर्गीय परिवार में 5 नवंबर 1988 को हुआ. बॉलीवुड की ये top 5 फेमस अभिनेत्रिया, जिन्होंने क्रिकेटर्स के साथ की शादी दिवाली पर पिछले 500 सालों में नहीं बना ऐसा दुर्लभ महासंयोग सोना खरीदने से पहले खुद पहचानें असली है या नकली धनतेरस में भूल कर भी न ख़रीदे ये वस्तुएं दिवाली पर रंगोली कहीं गलत तो नहीं बना रहे Ananya Panday करेगीं अपने से 13 साल बड़े Actor से शादी WhatsApp में आ रहे 5 कमाल के फीचर ये कपल को जमकर किया जा रहा ट्रोल…बच्ची जैसी दिखती है पत्नी