February 24, 2024 10:45 am

रामायणी कहें जानें वाले सांसद मोहन मंडावी का रिपोर्ट कार्ड, पढ़िए पूरी डिटेल

सोशल संवाद/दिल्ली (रिपोर्ट – सिद्धार्थ प्रकाश ) :  मोहन मंडावी वर्तमान में कांकेर लोकसभा क्षेत्र सांसद, सदस्य कृषि स्थायी समिति, कोल एवं माइंस मंत्रालय संबंधी सलाहकार समिति ,सदस्य राष्ट्रीय कार्यसमिति  अ. ज. जा. मोर्चा,प्रदेश संरक्षक तुलसी मानस प्रतिष्ठान और सर्व आदिवासी समाज प्रदेश संरक्षक हैं। कांकेर संसदीय क्षेत्र के 2019 में सांसद मोहन मंडावी जब निर्वाचित हुए तब प्रवेश में कांग्रेस की सरकार थी। कांकेर संसदीय क्षेत्र में कांकेर, अंतागढ़, भानुप्रतापपुर, केशकाल, नगरी, बालोद, डौंडीलोहारा, गुण्डरदेही विधानसभा क्षेत्र शामिल है। ऐसी स्थिति में सांसद द्वारा क्षेत्र के विकास के लिए किए गए कार्य।

सांसद आदर्श ग्रामः-

कार्यकाल के दौरान संसदीय क्षेत्र के 5 ग्रामों के कांकेर जिला से बेवरती, लखनपुरी, बालोद जिला से मटिया (अ) अरमरीकला, धमतरी जिला के बेलरगाँव को आदर्श सांसद ग्राम के रूप में चिन्हांकित कर ग्राम विकास के लिए ई.पी.डी.पी बनाया गया। ग्राम बेवरती के चिन्हित कार्य में से सभी कार्य पूर्ण हो चुके है।आदर्श ग्राम लखनपुरी में चयनित कार्य को पूर्ण किया जा चुका है. शेष बचे कार्यों को पूर्ण किया जा रहा हैं। इसी तरह अरमरीकला, मटिया (अ) और बेलरगांव के प्रस्तावित कार्यो को पूर्ण किया जा रहा हैं।

लोकसभा में सांसद मोहन मण्डावी ने पूछे 101 प्रश्न :

सांसद ने रेल कनेक्टीविटी, मेडिकल कॉलेज, सैनिक स्कूल, राष्ट्रीय राजमार्ग 30 का खस्ताहाल, कांकेर, केशकाल में बायपास रोड, लौह अयस्क क्षेत्रों की समस्याएँ, रोजगार हेतु उद्योगों की स्थापना, लघुवनोपज का उचित दाम, ट्रायबल युनिवर्सिटी की स्थापना, हवाई अड्डा का विस्तार, देहदान परिवार को प्रोत्साहन राशि, मानस को पाठ्यक्रम सम्मिलित करना, शिक्षा स्वास्थ्य की बेहतरी के लिए,जल जीवन मिशन में हो रहे अनियमितता, हाइवे में जर्जर पूल निर्माण की मांग, पर्यटन क्षेत्र को बढ़ावा , धार्मिक क्षेत्रों का विस्तार,जल तारांकित अतारांकित शून्यकाल में प्रश्न, क्षेत्र की ज्वलंत समस्याओं को उठाया गया।

सांसद की सदन में रही शत् प्रतिशत उपस्थितिः-

सांसद मोहन मंडावी की लोकसभा की सभी सत्रों में शत् प्रतिशत उपस्थिति रही है। विषम परिस्थिति में भी सांसद मोहन मंडावी सत्र में उपस्थिति रहे है।

सांसद की बड़ी उपलब्धिः-

सांसद ने तात्कालिन केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री  डॉ. हर्षवर्धन से प्रत्यक्ष मुलाकात कर व सदन के माध्यम से कांकेर तथा बालोद जिला में मेडिकल कॉलेज की माँग को प्रमुखता से रखी। इसी के परिणाम स्वरूप कांकेर में मेडिकल कॉलेज की स्थापना हुई । यह क्षेत्रवासियों के लिए बड़ी उपलब्धि है। सांसद के अनुशंसा से आकांक्षी जिला कांकेर में अधोसंरचना एवं उपकरण मद के लिए साउथ ईस्ट कोलफील्ड लिमिटेड बिलासपुर द्वारा सी.एस.आर. विभाग से 19 करोड़ 39 लाख 90 हजार की राशि कांकेर स्वास्थ्य विभाग को 2018-19 में प्राप्त हुआ।

इस राशि का उपयोग जिले के खंड चिकित्सा अधिकारी से मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी से प्राप्त सुझाव व मांग के आधार पर व्यय किया गया। इसी तरह से सांसद के प्रयास से जिला अस्पताल कांकेर में प्रधानमंत्री डायलिसिस सेण्टर उपलब्ध हुआ।  प्रधानमंत्री के संकल्प कुपोषण मुक्त भारत के लिए सांसद मोहन मंडावी के प्रयासों से सी. एस. आर. प्रावधानों के तहत् यूनीसेड द्वारा कांकेर जिला के आंगनबाड़ी में पंजीकृत 18 हजार बच्चों को कुपोषण कीट की स्वीकृति प्रदान की गई। आकांक्षी जिला कांकेर में विद्युतीकरण के लिए अटल ज्योति योजना अंतर्गत 1 हजार सोलर श्री लाईट सेल के द्वारा कांकेर सांसद के अनुशंसा से 2019 में प्राप्त हुई थी। जिसका लाभ ग्रामीणों को प्रत्यक्ष रूप से मिला हैं।

रेल सुविधाएँ:-

कांकेर सांसद के जुझारूपन के कारण भानुप्रतापपुर से ताड़ोकी तक रेल परिचालन की सुविधा मिली। जगदलपुर व्हाया नारायणपुर रेल’ लाईन का विस्तार को मंजूरी मिली । भानुप्रतापपुर से गढ़‌चिरौली व्हाया दुगूकोंदल, कापसी, पखांजूर रेल लाईन सर्वे कार्य को स्वीकृति मिली। बालोद, दल्लीराजहरा, भानुप्रतापपुर को मॉडल रेलवे स्टेशन के रूप में विकसित करने के लिए 10-10 करोड़ की राशि दी गयी। धमतरी से व्हाया नगरी, कोण्डागाँव रेलवे सर्वे कार्य को बजट में मंजूरी दी गई । झलमला से शेरपार 37 कि.मी. 223 करोड़ के लागत से सड़क की स्वीकृति के साथ प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के तहत् प्रत्येक गांव को मुख्य सड़क जोड़ने का कार्य किया गया। दल्लीराजहरा में रेडियों ट्रांसमिशन का स्थापना सांसद के पहल हुईं। कांकेर में अंजनी, फरसकोट, हिलचुर, नरहरपुर तथा कोण्डागाँव, से बेड़मा, कोरगाँव, शामपुर, चिचाड़ी में एकलव्य विद्यालय की स्थापना की मंजूरी की गई। सांसद की पहल से दल्लीराजहरा में 500 करोड़ का प्रोसेटिंग-प्लांट एवं 161 करोड़ की लागत से सिलिका रेडेक्शन प्लॉट की स्थापना हुईं।

आदिवासी अंचल में सांसद मंडावी ने जन- जन को राम से जोड़ा

सांसद ने आदिवासी अंचल के गांवों में जन जागरुकता लाने, धार्मिक कुरुतियों को दूर करने और धर्मातरण को रोकने के लिए रामकथा के माध्यम से लोगों में मानस की प्रतियां बांटी। सांसद मोहन मंडावी को रामायणी सांसद भी कहा जाता हैं। वें सन् 2002 से श्रीरामचरितमानस की प्रतियां वितरीत कर रहे हैं। हाल ही में उन्होंने 51 हजार परिवारों को मानस ग्रंथ वितरण के संकल्प को पूर्ण कर गोल्डन बुक ऑफ़ वर्ल्ड रिकॉर्ड में अपना नाम दर्ज किया। सांसद मोहन हारमोनियम और बेंजो वादक के साथ एक अच्छे व्याख्याकार भी हैं। क्षेत्र की जनता उन्हें रामायणी और रामभक्त सांसद के नाम से जानते हैं।

Our channels

और पढ़ें