April 17, 2024 5:12 pm
Srinath University Adv (1)

9 ज़हरो से बनी इस मूर्ति में है औषधीय गुण , हो जाती है कई बीमारियाँ ठीक

Xavier Public School april

सोशल संवाद/डेस्क (रिपोर्ट : तमिश्री )- आप सबने मिटटी की बनी मूर्तियाँ देखि होंगी। गोबर और सिक्को की भी देखि होगी। संगमरमर की भी मूर्तियाँ देखि  होंगी। पर क्या आपको पता है एक मूर्ति ऐसी भी है जो ज़हर से बनी है। वो भी एक नहीं बल्कि 9 अलग अलग खतरनाक  ज़हर  से । जी हा तमिल नाडू के पलानी मुरुगम मंदिर में स्थित मूर्ति नवपशाना से बनी है जिसका अर्थ है 9 विष या 9 ज़हर।  पलानी का मंदिर भगवान दंडायुधपाणि के रूप में भगवान मुरुगन के छह प्रसिद्ध तीर्थ स्थलों में से एक है। पलानी में मूर्ति एक तपस्वी के रूप में है। दुनिया को त्यागने के बाद, भगवान दंडायुधपाणि अपने दाहिने हाथ में एक छड़ी और गले में रुद्राक्ष की माला के साथ खड़े हैं। सभी सांसारिक संपत्तियों को छोड़कर, उन्होंने अपने पास रखने के लिए एकमात्र परिधान ब्रीचक्लॉथ को चुना है।

देखे विडियो : https://youtu.be/9ijK2YKxx-o 

इस मूर्ति का निर्माण सिध्ह भोगर ने किया था। भोगर एक महान रासायनिक एक्सपर्ट  थे और 18 महान संतो में से एक भी। हिंदू मंदिरों में अन्य देवताओं के विपरीत, जिन्हें आमतौर पर ग्रेनाइट से बनाया जाता है, पलानी में मूर्ति एक मिश्रण से बनी होती है जिसे नवपासनम के नाम से जाना जाता है। संस्कृत में नव शब्द के दो अर्थ होते हैं। नव का अर्थ ‘नया’ भी है और ‘नौ’ भी। इसी प्रकार भासन शब्द के भी दो अर्थ होते हैं। भासन का अर्थ है ‘जहर’ और इसका अर्थ ‘खनिज’ भी हो सकता है। प्राचीन साहित्य के अनुसार, बोगर ने मूर्ति का निर्माण नौ जहरीली धातुओं के चतुराईपूर्ण मिश्रण से किया था। फिर उन्होंने इन सभी धातुओं की जहरीली प्रकृति का उपयोग किया, इसे ग्रेनाइट की तरह कठोर किया और इसे औषधीय और उपचारात्मक मूल्यों के साथ एक लाभकारी मिश्रण में बदल दिया। जिससे ज़हर बेअसर हो गया।

उन्होंने कैसे किस ज़हर को कितनी मात्रा में मिलाया उसे इस रूप में बदलने के लिए । ये अभी तक पता नहीं लग पाया है। लेकिन माना जाता है कि उन सभी ज़हेरो को अगर सही मात्रा में मिलाया जाय तो वो एक अत्यंत लाभकारी औषधि का काम करता है। कहते है पलानी देवता का अभिषेकम आम तौर पर दूध, पंचामृतसे किया जाता है जिसमे  ताजा और सूखे फल, शहद, गुड़, घी और अन्य प्राकृतिक पदार्थों से बना एक मीठा जाम जैसा मिश्रण का उपयोग करके प्रसाद बन जाता है।  उस में कई बीमारियों को ठीक करने की क्षमता है। कुछ लोग अभिषेक किये गए जल को पीते भी है । यहाँ तक की  मूर्ति पर रात भर लगाया गया चंदन का लेप कई असाध्य और जटिल रोगों के लिए एक अद्भुत औषधि माना जाता है ।

यह चमत्कार ही है कि इस नाजुक ढंग से गढ़ी गई मूर्ति ने समय और अनगिनत अभिषेक के प्रभाव को झेला है। यह मूर्ति लाखों भक्तों की शोभा बढ़ाती रहती है और बोगर की रसायन विज्ञान विशेषज्ञता के प्रमाण के रूप में खड़ी है।पलानी की तीर्थयात्रा पर जाने वाले भक्त मंदिर के दक्षिण-पश्चिमी गलियारे में बोगर को समर्पित मंदिर के दर्शन कर सकते हैं। किंवदंती है कि यह पलानी पहाड़ियों के मध्य में भूमिगत सुरंग गुफा से जुड़ा हुआ है, जहां बोगर भगवान मुरुगन की आठ मूर्तियों के साथ ध्यान करते हैं और अपनी निगरानी बनाए रखते हैं।

कहा जाता है सदियों की पूजा के बाद, देवता की मूर्ति  जंगल की चपेट में आ गया । और कई वर्षो तक नहीं हुई।एक रात, चेरा राजवंश के राजा पेरुमल, अपने शिकार दल से भटक गए और उन्हें पहाड़ी के नीचे शरण लेने के लिए मजबूर होना पड़ा। ऐसा हुआ कि सुब्रमण्यन ने उन्हें सपने में दर्शन दिए और उनकी मूर्ति को उसकी पूर्व स्थिति में बहाल करने का आदेश दिया। राजा ने मूर्ति की खोज शुरू की और मिलने के बाद, उस मंदिर का निर्माण कराया जिसमें अब वह स्थित है, और उनकी पूजा फिर से शुरू की गई। इसकी स्मृति पहाड़ी की ओर जाने वाली सीढ़ी के नीचे एक छोटे से स्टेला द्वारा की जाती है।

मंदिर भी एक अद्भुत वास्तुकला का उदहारण है । मंदिर एक पहाड़ी के ऊपर खड़ा है और इसमें कई नक्काशियां की हुई है। मंदिर सुबह 6 बजे से रात 8 बजे तक खुला रहता है। त्योहार के दिन मंदिर सुबह 4.30 बजे खुलता है।

Print
Facebook
Twitter
Telegram
WhatsApp
जाने छठ पूजा से जुड़ी ये खास बाते विराट कोहली का जन्म एक मध्यमवर्गीय परिवार में 5 नवंबर 1988 को हुआ. बॉलीवुड की ये top 5 फेमस अभिनेत्रिया, जिन्होंने क्रिकेटर्स के साथ की शादी दिवाली पर पिछले 500 सालों में नहीं बना ऐसा दुर्लभ महासंयोग सोना खरीदने से पहले खुद पहचानें असली है या नकली धनतेरस में भूल कर भी न ख़रीदे ये वस्तुएं दिवाली पर रंगोली कहीं गलत तो नहीं बना रहे Ananya Panday करेगीं अपने से 13 साल बड़े Actor से शादी WhatsApp में आ रहे 5 कमाल के फीचर ये कपल को जमकर किया जा रहा ट्रोल…बच्ची जैसी दिखती है पत्नी